Fri, 20 Jan 2023

MP: विज्ञान महोत्सव में एग्रोबोट बनेगा मुख्य आकर्षण, 1500 स्टूडेंट्स मौके पर करेंगे असेंबल

MP: विज्ञान महोत्सव में एग्रोबोट बनेगा मुख्य आकर्षण, 1500 स्टूडेंट्स मौके पर करेंगे असेंबल

सुमित कुमार - संवाददाता

भोपाल। मध्यप्रदेश और यहां के लोगों के लिए 21 से 24 जनवरी तक समय बहुत महत्वपूर्ण रहने वाला है। इस दौरान देश के प्रतिष्ठित वैज्ञानिक, प्रोफेसर्स, टीचर्स आदि एक साथ एक मंच पर होंगे जो विज्ञान और तकनीक के विषय पर अपने अनुभवों को साझा करेंगे। यही नहीं यह एक ऐसा मंच होगा जहां पर बच्चे विज्ञान के क्षेत्र में बेहतर से बेहतर करियर कैसे बना सकते हैं, उसके लिये क्या पढ़ाई करना होगी, कौन से एग्जाम क्लीयर करने होंगे यह सब जानकारी बच्चे प्राप्त कर सकेंगे।

यह जानकारी डीबीटी नई दिल्ली के वरिष्ठ सलाहकार डॉ. संजय मिश्रा ने गुरुवार को होटल लेक व्यू एमपीटी में 8वें भारत अंतरराष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव से जुड़ी पत्रकार वार्ता के दौरान दी। डॉ. संजय ने बताया कि इस विज्ञान महोत्सव में हर उम्र के लोगों के लिए महत्वपूर्ण जानकारियां उपलब्ध होंगी। इस अवसर पर श्री सुधांशु व्रती, कार्यकारी निदेशक आरसीबी फरीदाबाद, राष्ट्रीय सचिव विज्ञान भारती प्रवीण रामदास, इंसा कार्यकारी निदेशक अरविंद रनाडे, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग मप्र के प्रमुख सचिव निकुंज श्रीवास्तव, मेपकास्ट के महानिदेशक डॉ. अनिल कोठारी उपस्थित थे।  

इस दौरान मप्र विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के प्रमुख सचिव श्री निकुंज श्रीवास्तव ने कहा कि यह मध्यप्रदेश के लिए गौरव का विषय है कि 8वें भारत अंतरराष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव की मेजबानी का अवसर मेपकास्ट और मध्यप्रदेश को मिला है। उन्होंने कहा कि हम सभी का यह कर्तव्य है कि हम इस आयोजन से जुड़ी जानकारी लोगों तक पहुंचाये और आयोजन में लोगों को शामिल होने के लिए उत्साहित करें। लोगों के बीच में वैज्ञानिक दृष्टिकोण की जागरुकता होना अत्यंत आवश्यक है। क्योंकि तकनीक का मतलब सिर्फ इनोवेशन से नहीं होता है। इनोवेशन प्रदेश के विकास में किस तरह से सहायक हो यह जरूरी है।

इस अवसर पर उपस्थित  सुधांशु व्रती, कार्यकारी निदेशक आरसीबी फरीदाबाद ने कहा कि इस फेस्टिवल में एग्रोबोट लोगों के लिए मुख्य आकर्षण का केंद्र होगा। 1500 बच्चे मिलकर एग्रीबोट असेम्बल करेंगे। जो गिनीज रिकॉर्ड में दर्ज होगा। यह रोबोट खेतों में सीड के छिड़काव और सिंचाई से जुड़े कार्य करेगा। सुधांशु व्रती ने बताया कि हमारी कोशिश है कि भारत इस वर्ष ईयर ऑफ मिलेट मना रहा है इसलिए हम मिलेट सीड का उपयोग ही इस रोबोट के माध्यम से करेंगे।

इस दौरान मेपकास्ट के महानिदेशक डॉ. अनिल कोठारी ने इस आयोजन को लेकर मेपकास्ट द्वारा की गई तमाम तैयारियों की जानकारी को साझा किया। उन्होंने बताया कि विज्ञान महोत्सव में लगभग दो लाख वर्गफीट में एक विशाल प्रदर्शनी लगाई जा रही हैं जिसमें प्रदर्शनी में इसरो, परमाणु ऊर्जा विभाग, अंतरिक्ष विभाग, पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, डीआरडीओ सहित विज्ञान के क्षेत्र में कार्य करने वाले भारत के 300 से अधिक संस्थान अपनी उपलब्धियों को प्रदर्शित करेंगे।

Advertisement

Advertisement

Advertisement