Tue, 2 Aug 2022

समीक्षा बैठक में बोले CM योगी कम बारिश फिर भी स्थिति नियंत्रित नहीं होने देंगे किसानों का नुकसान

समीक्षा बैठक में बोले CM योगी कम बारिश फिर भी स्थिति नियंत्रित नहीं होने देंगे किसानों का नुकसान

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि प्रदेश में भले कम बरसात हुई हो लेकिन एक भी किसान का नुक़सान नहीं होने दिया जाएगा। जरूरत के अनुसार किसानों को हर संभव सहायता भी दी जाएगी। सोमवार को अपने सरकारी आवास पर सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बारिश और फसल बुवाई की समीक्षा करते हुए आला अधिकारियों को निर्देश दिये कि मौजूदा हालात में सभी किसानों से संवाद-संपर्क बनाए रखा जाए, सरकार को सभी किसानों के हितों को सुरक्षित रखने का दायित्व निभाना होगा।

समीक्षा के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें हर परिस्थिति के लिए तैयार रहना चाहिए। कृषि, सिंचाई, राहत, राजस्व आदि सम्बंधित विभाग अलर्ट मोड में रहें। हर जनपद में कृषि विज्ञान केंद्रों, कृषि विश्वविद्यालयों, कृषि वैज्ञानिकों के माध्यम से किसानों से निरन्तर संवाद बनाये रखना होगा। कहा कि मौसम का सटीक अनुमान और उसके बाद मौसम अलर्ट के लिए कमिश्नरी स्तर पर यंत्र स्थापित किए जाएं। इस कार्य में राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की सहायता भी ली जाए।

19 जनपदों में 40 फीसदी से भी कम बरसात

प्रदेश में 30 जनपद ऐसे हैं जहां सामान्य से 40 प्रतिशत से 60 प्रतिशत तक ही बरसात दर्ज की गई है। जबकि 19 जनपदों में 40 फीसदी से भी कम बरसात हुई है। इन जिलों में खरीफ फसलों की बुवाई प्रभावित हुई है। हमें सभी परिस्थितियों के लिए तैयार रहना होगा। कहा कि कानपुर, अमरोहा, मुरादाबाद, गोंडा, मऊ, बहराइच, बस्ती, संतकबीरनगर, गाजियाबाद, कौशाम्बी, बलिया, श्रावस्ती, गौतमबुद्ध नगर, शाहजहांपुर, कुशीनगर, जौनपुर, कानपुर देहात, फर्रुखाबाद और रामपुर जिले में सामान्य की तुलना में मात्र 40 प्रतिशत बरसात हुई है। इन जिलों पर विशेष ध्यान रखा जाए।

आगरा में तो सामान्य से अधिक बारिश

इस साल 31 जुलाई तक प्रदेश में कुल 191.8 मिलीमीटर बारिश हुई है, जो कि वर्ष 2021 में हुई 353.65 मिमी और वर्ष 2020 में हुई 349.85 मिमी वर्षा की तुलना में कम है। इस बीच एकमात्र आगरा जिला ऐसा रहा जहां सामान्य (120 प्रतिशत से अधिक) बारिश हुई। वहीं, रामपुर ऐसा जिला है सामान्य की तुलना में मात्र 18 प्रतिशत ही बरसात हुई लेकिन अब तक यहां 98 प्रतिशत फसल की बुआई हो चुकी है।

Advertisement

Advertisement