Thu, 15 Sep 2022

कपिल सिब्बल ने SC पर फिर उठाए सवाल; कहा, संस्था से धीरे-धीरे उठ रहा लोगों का भरोसा

कपिल सिब्बल ने SC पर फिर उठाए सवाल; कहा, संस्था से धीरे-धीरे उठ रहा लोगों का भरोसा

वरिष्ठ वकील और राज्यसभा सांसद कपिल सिब्बल ने एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट की आलोचना की है। खास बात यह है कि इस बार उन्होंने कोर्ट में ही उसकी आलोचना की। सिब्बल ने एक बैंच के सामने कहा कि संस्था से लोगों का भरोसा धीरे-धीरे उठ रहा है। पिछले महीने भी उन्होंने जकिया जाफरी और पीएमएलए के मामलों को लेकर सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ टिप्पणी की थी। सिब्बल ने मंगलवार को जस्टिस अजय रस्तोगी और जस्टिस बीवी नागरत्ना की बैंच से कहा कि जिस कुर्सी पर आप बैठते हैं, उसके लिए हमारे मन में बहुत सम्मान है। यह एक ऐसी शादी है, जिसे बार और बैंच के बीच नहीं तोड़ा जा सकता है। इसे अलग नहीं किया जा सकता। और जब हमें महसूस होता है कि क्या हो रहा है, कभी इस ओर से (बार) तो कभी उस ओर (बैंच) से तो यह मेरे जैसे शख्स को डिस्टर्ब करता है, जो अपना पूरा जीवन इस कोर्ट को दे चुका हो।
सिब्बल ने सपा नेता आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम से जुड़े एक केस की पैरवी करने के दौरान यह बात कही। अब्दुल्ला की विधानसभा सदस्यता दस्तावेजों में उम्र कम करके दिखाने को लेकर रद्द कर दी गई थी। सिब्बल की टिप्पणी पर जस्टिस रस्तोगी ने कहा कि बार और बैंच रथ के दो पहिए हैं। सिब्बल ने कहा कि वह जीतते हैं या हारते हैं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, लेकिन संस्थानों में भरोसा धीरे-धीरे कम हो रहा है। इस पर बैंच ने कहा कि हारने वाले पक्ष को भी संतुष्ट होकर वापस जाना चाहिए। अगस्त में भी सिब्बल ने कुछ इसी तरह सुप्रीम कोर्ट पर सवाल उठाए थे, लेकिन तब वह एक कार्यक्रम में बोले थे।

Advertisement

Advertisement