Sat, 9 Jul 2022

Shinzo Abe and Modi: चला गया PM नरेंद्र मोदी का जिगरी यार

pm modi

शिंजो आबे का असामयिक निधन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए व्यक्तिगत क्षति है। ट्वीट्स की एक शृंखला में उन्होंने आबे के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया। पूर्व जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच एक खास रिश्ता था और वर्षों से दोनों से एक दूसरे के दोस्त थे। 2007 में जब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में श्री शिंजो आबे से पहली बार जापान यात्रा के दौरान मिले थे। श्री आबे उस समय जापान के प्रधानमंत्री थे।

तब स्पेशल जेस्चर दिखाते हुए श्री आबे ने श्री मोदी की मेजबानी की थी और विकास के कई पहलुओं पर उनके साथ चर्चा की थी। तब से दोनों नेता कई मौकों पर एक.दूसरे से मिल चुके हैं, जिसने न केवल दोनों देशों के बीच संबंध मजबूत हुए, बल्कि उनके बीच एक चिरस्थायी बंधन भी विकसित हुआ। 2012 में श्री मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में जापान की चार दिवसीय यात्रा की।


jagran

इस यात्रा के दौरान भी श्री मोदी ने शिंजो आबे से मुलाकात कीए तब वो उस समय विपक्ष के नेता थे। दोनों नेताओं के बीच संवाद जारी रहा और दोनों देशों के बीच संबंध गहरे हुएए जब 2014 में श्री मोदी ने भारत के प्रधानमंत्री के रूप में पहली बार जापान में क्योटो का दौरा किया। भारत-जापान संबंधों की जीवंतता को प्रदर्शित करते हुए श्री आबे ने पीएम मोदी के लिए रात्रिभोज का आयोजन किया। पीएम आबे ने इस बात पर भी खुशी जताई थी कि पीएम मोदी ने क्योटो की सांस्कृतिक विरासत का आनंद लिया।

दोनों नेताओं ने एक साथ क्योटो के तोजी मंदिर के दर्शन किए थे। दोनों नेताओं के बीच मैत्रीपूर्ण समीकरणों के एक और प्रतिबिंब में पीएम आबे ने 2014 में ळ.20 शिखर सम्मेलन के दौरान ब्रिस्बेन में पीएम मोदी के लिए एक विशेष रात्रिभोज की मेजबानी की। उन्होंने 2014 में जापान की अपनी पांच दिवसीय यात्रा के दौरान क्योटो के इंपीरियल गेस्ट हाउस में पीएम मोदी के लिए रात्रिभोज की मेजबानी भी की थी। प्रधानमंत्री मोदी ने 2015 में वाराणसी में प्रतिष्ठित गंगा आरती के लिए पीएम आबे की मेजबानी करके इस गर्मजोशी और फ्रेंडली जेस्चर को आगे बढ़ाया।

Advertisement

Advertisement