Sun, 20 Nov 2022

ब्रिटेन के बाद फ्रांस ने भी किया समर्थन, यूएन में मिले भारत को स्थायी सदस्यता

ब्रिटेन के बाद फ्रांस ने भी किया समर्थन, यूएन में मिले भारत को स्थायी सदस्यता

न्यूयॉर्क: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में स्थायी सदस्यता के लिए भारत को यूनाइटेड किंगडम के बाद फ्रांस का भी समर्थन मिला है। फ्रांस ने भारत को यूएन सिक्योरिटी काउंसिल का स्थायी सदस्य बनाने की पेशकश की है। इसके पहले शुक्रवार यानी 18 नवंबर को ब्रिटेन ने भी भारत के पक्ष में यह मांग उठाई थी। इसके पहले 18 नवंबर को ब्रिटेन ने भी भारत के पक्ष में यह मांग उठाई थी। इन देशों ने भारत के साथ-साथ जर्मनी, जापान और ब्राजील की भी पैरवी की है। सुरक्षा परिषद में सुधार पर यूएनएससी की वार्षिक बहस को संबोधित करते हुए फ्रांस के उप प्रतिनिधि नथाली ब्रॉडहसस्र्ट एस्टिवल ने कहा कि फ्रांस स्थायी सीटों के लिए स्थायी सदस्य के रूप में जर्मनी, ब्राजील, भारत और जापान की उम्मीदवारी का समर्थन करता है। उन्होंने कहा कि हम परिषद के स्थायी सदस्यों सहित अफ्रीकी देशों से भी अधिक प्रतिनिधित्व चाहते हैं, क्योंकि भौगोलिक प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करने के लिए कई सीटों का वितरण किया जाना चाहिए।

एस्टिवल ने कहा कि वीटो का मुद्दा अत्यधिक संवेदनशील है। उन्होंने कहा है कि समय आ गया है, जब उभरते ताकतवर देशों की दुनिया की सबसे पावरफुल संस्था में भागीदारी बढ़े। इससे पहले यूके ने भी यूएनएससी की स्थायी सदस्यता के लिए भारत को अपना समर्थन दिया था। संयुक्त राष्ट्र में ब्रिटेन के राजदूत बारबरा वुडवर्ड ने कहा था कि हम भारत, जर्मनी, जापान और ब्राजील के लिए नई स्थायी सीटों के निर्माण के साथ-साथ परिषद में स्थायी अफ्रीकी प्रतिनिधित्व का समर्थन करते हैं। वुडवर्ड ने कहा कि यूके सदस्यता की अस्थायी श्रेणी के विस्तार का भी समर्थन करता है।

Advertisement

Advertisement