Sat, 17 Sep 2022

चीन-पाक से दूरी, रूस से प्यार, एससीओ सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कूटनीति

चीन-पाक से दूरी, रूस से प्यार, एससीओ सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कूटनीति

समरकंद: पीएम नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग जब शंघाई सहयोग संगठन के मंच पर दिखे तो दूरिया भी साफ नजर आईं। दोनों नेताओं न तो हाथ मिलाया और न ही चेहरे पर कोई मुस्कान थी। उज्बेकिस्तान के समरकंद में आयोजित समिट में पीएम नरेंद्र मोदी चीन के राष्ट्रपति से उचित दूरी बनाते हुए दिखे। गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच 2020 में हुई झड़प के बाद यह पहला मौका था, जब दोनों नेता एक मंच पर आमने-सामने थे। लेकिन यह नजदीकी भी दिलों की दूरियां शायद नहीं मिटा पाई और दोनों नेता औपचारिक मुलाकात से भी बचते दिखे। वहीं, पीएम नरेंद्र मोदी ने इस समिट के दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ से भी मुलाकात नहीं की है।
यूक्रेन संकट जल्द खत्म
समरकंद। एससीओ समिट में रूस के राष्ट्रपति पुतिन के सामने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ग्लोबल सप्लाई चेन और खाद्य संकट का मुद्दा उठाया था। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि महामारी और यूक्रेन संकट से ग्लोबल सप्लाई चेन बाधित हुआ है, जिसके कारण दुनिया में अभूतपूर्व खाद्य संकट पैदा हो गया है। अब पीएम मोदी के इस बयान पर रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने प्रतिक्रिया दी है। समिट से अलग दोनों नेताओं के बीच मुलाकात हुई। इस मुलाकात के दौरान पुतिन ने कहा कि वह चिंताओं को समझते हैं। पुतिन ने कहा कि वह चाहते हैं कि जल्द से जल्द यूक्रेन के साथ संघर्ष खत्म हो जाए। पुतिन ने भारत को आजादी के 75वें साल की बधाई के साथ बातचीत की शुरुआत की। साथ ही उन्होंने पीएम को रूस आने का निमंत्रण भी दिया।
तुर्की ने बढ़ाया हाथ
समरकंद। उज्बेकिस्तान के समरकंद में आयोजित शंघाई सहयोग संगठन की मीटिंग से इतर पीएम नरेंद्र मोदी ने तुर्की के राष्ट्रपति तैयप अर्दोआन से भी मुलाकात की है। दोनों देशों के बीच कुछ सालों में कश्मीर को लेकर तनाव देखने को मिला था। ऐसे में यह मीटिंग अप्रत्याशित है और इससे तुर्की के रवैए में बड़ा बदलाव देखने को मिला है। दो साल पहले अर्दोआन ने कश्मीर को लेकर टिप्पणी की थी, जिसे पर भारत ने तीखा ऐतराज जताया था। दरअसल अर्दोआन ने पाकिस्तान के दौरे पर कह दिया था कि कश्मीर में हालात बिगड़ रहे हैं। इस पर भारत ने तुर्की के राजदूत को समन जारी कर ऐतराज जाहिर किया था।
पुतिन बोले, मुझे पता आपका जन्मदिन है, पर एडवांस में विश नहीं करूंगा
रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पीएम मोदी को एडवांस में हैप्पी बर्थडे बोलने से इनकार कर दिया। हालांकि इसके पीछे उन्होंने रूसी परंपरा का हवाला दिया। दरअसल मोदी और पुतिन ने शुकर््वार को शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के वार्षिक शिखर सम्मेलन से इतर बातचीत की। विभिन्न मुद्दों पर चर्चा के दौरान पुतिन ने कहा कि उन्हें इस बारे में जानकारी है कि पीएम मोदी कल अपना जन्मदिन मनाने वाले हैं। पुतिन ने पीएम से कहा थ्क् मेरे प्यारे दोस्त, कल आप अपना जन्मदिन मनाने वाले हैं और हमें इस बारे में पता है। प्रधानमंत्री मोदी का जन्मदिन 17 सितंबर को होता है। मुस्कुराते हुए पुतिन ने मोदी से कहा कि उन्हें पता है कि भारतीय प्रधानमंत्री शुक्रवार को अपना जन्मदिन मनाएंगे, लेकिन यह रूसी परंपरा नहीं है कि पहले से ही जन्मदिन की बधाई दी जाए।

Advertisement

Advertisement