Sun, 15 Jan 2023

कभी-कभी Ayurvedic विशेषज्ञ भी इस पौधे के फल और फूल या पत्ते खाने की सलाह देते हैं।

कभी-कभी Ayurvedic विशेषज्ञ भी इस पौधे के फल और फूल या पत्ते खाने की सलाह देते हैं।

एक ऐसा पौधा है जिसके सेवन से पेट के कई रोग आसानी से ठीक हो जाते हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं एक 'सैलरी प्लांट' की।

अजवाइन का पौधा लगाने के लिए सामग्री
बीज
उर्वरक
बर्तन (मिट्टी)
पानी

सही बीज चुनें
किसी भी फल, सब्जी या औषधीय पौधे को गमले में लगाने के लिए सही बीज का चुनाव करना बहुत जरूरी है। आप और हम कितनी भी मेहनत कर लें, अगर बीज सही नहीं होगा, तो पौधा कभी भी ठीक से विकसित नहीं हो पाएगा। ऐसे में अजवाइन के पौधे लगाने के लिए सही बीज या पौधों का चुनाव करना बेहद जरूरी है।

आप अजवाइन के बीज या पौध खरीदने के लिए बीज की दुकान या नर्सरी में जा सकते हैं। इन दोनों जगहों पर समुद्र तट या पौधों की अच्छी किस्म आसानी से मिल जाती है।

अजवाइन लगाने से पहले करें ये काम
अगर आप चाहते हैं कि आपका अजवाइन का पौधा अच्छी तरह से विकसित हो, तो पौधे लगाने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। पसंद करना-
जिस मिट्टी को आप गमले में डालने जा रहे हैं उसे तोड़कर एक दिन के लिए तेज धूप में रख दें। यह मिट्टी से कीड़े या मातम को मारता है या हटाता है।
अगले दिन मिट्टी में एक से दो कप खाद डालकर अच्छी तरह मिला लें।
नोट- उर्वरक के रूप में आप केवल वर्मी कम्पोस्ट (मिट्टी की खाद या गोबर) या अन्य जैविक खाद का ही प्रयोग करें। रासायनिक खाद के प्रयोग से पौधे कभी भी मर सकते हैं।
अब गमले में कम्पोस्ट मिट्टी डालकर अच्छी तरह समतल कर लें। मिट्टी को समतल करने के बाद, बीजों को 1-2 इंच गहरी मिट्टी में दबा दें और ऊपर से मिट्टी लगा दें। मिट्टी डालने के बाद 1-2 माप पानी डालें।
नोट: यदि अजवाइन के बीज पौधे के रूप में हैं, तो बीज को पौधे के बीच में गमले में रखें और किनारों से मिट्टी डालकर समतल करें। मिट्टी को समतल करने के बाद पानी अवश्य डालें।

अजवाइन लगाने के बाद इन बातों का रखें ध्यान
जिस तरह अजवाइन के पौधे लगाने से पहले आपको कुछ बातों पर ध्यान देने की जरूरत है, उसी तरह बीज बोने के बाद भी कुछ बातों पर ध्यान देने की जरूरत है। पसंद करना-

बीज/पौधे को तब तक धूप से दूर रखें जब तक कि बीज 3-4 इंच बड़े न हो जाएं।
अजवाइन के पौधों को किसी भी कीट या मौसमी कीट से दूर रखने के लिए उन पर कीटनाशक स्प्रे करना बहुत जरूरी है। इसके लिए प्राकृतिक कीटनाशक स्प्रे का ही इस्तेमाल करें।
कीटनाशकों के छिड़काव के अलावा समय-समय पर पौधों में जैविक खाद और पानी डालें।
लगभग 4-5 महीने के बाद पौधा फल और फूल देना शुरू कर देता है जिसका आप उपयोग कर सकते हैं।
नोट: पेट की समस्याओं के लिए अजवाइन का सेवन करने से पहले हमेशा किसी आयुर्वेदिक विशेषज्ञ से सलाह लें।

Advertisement

Advertisement

Advertisement