Mon, 18 Jul 2022

वाराणसी में मंदिर और शिवालयों में उमड़ी भीड़

वाराणसी में मंदिर और शिवालयों में उमड़ी भीड़

सावन माह का पहला सोमवार होने के चलते आज काशी के सभी मंदिरों और शिवालयों में बाबा के दर्शन के लिए काफी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे हैं। दो साल तक कोरोना वायरस के चलते दर्शन पूजन न कर पाने के बाद इस बार भक्तों में भी काफी उत्साह दिखाई दे रहा है।

श्री काशी विश्वनाथ धाम में बाबा का दर्शन करने के लिए रविवार की रात से ही काफी संख्या में श्रद्धालु पहुंच गए थे। मध्य रात्रि तक भक्तों की कतार डेढ़ किलोमीटर से अधिक लंबी हो गई थी। कांवरियों की कतार एक नंबर गेट से होते हुए ढूंढीराज गणेश और बांसफाटक से गोदौलिया तक लग गई थी। मंदिर में पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को देखते हुए सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। वहीं बाबा के दर्शन के लिए पहुंचने वाले दिव्यांग जनों और वृद्धों के लिए एकता का भी प्रबंध किया गया है।


13 दिसंबर को प्रधानमंत्री द्वारा काशी विश्वनाथ धाम का उद्घाटन करने के बाद पहली बार मां गंगा में स्नान करने के बाद जल लेकर भक्त सीधे बाबा दरबार में पहुंच रहे हैं। ललिता घाट पर स्नान करने के बाद गंगद्वार से बाबा दरबार में प्रवेश करने वाले भक्तों के लिए मैटिंग भी बिछाई गई है और टेंट की भी व्यवस्था की गई है। वही मंदिर प्रशासन द्वारा अनुमान लगाया जा रहा है कि आज करीब 6 लाख से अधिक श्रद्धालु बाबा दरबार में दर्शन करने पहुंच सकते हैं। यह भी बता दें कि सावन माह में हर सोमवार को बाबा का अलग-अलग रूपों में श्रृंगार किया जाता है। सावन के पहले सोमवार के दिन मानवाकृति रूप में विराजमान होकर बाबा भक्तों को दर्शन देंगे।


सावन के पहले सोमवार के दिन श्रद्धालुओं की सुरक्षा को देखते हुए पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश अलसुबह से ही गोदौलिया व अन्य क्षेत्रों में भ्रमण कर सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा ले रहे हैं। गंगा घाट पर श्रद्धालुओं की निगरानी के लिए जहां एनडीआरएफ की 11 वीं बटालियन के जवानों को तैनात किया गया है वहीं श्री काशी विश्वनाथ धाम के बाहर 12 सौ से अधिक महिला पुरुष पुलिसकर्मियों को सादे ड्रेस में तैनात किया गया है। इसके अलावा एटीएस के 25 कमांडो भी तैनात हैं और बाबा धाम से जुड़े सभी प्रमुख मार्गों की निगरानी ड्रोन कैमरे से की जा रही है।

श्री काशी विश्वनाथ धाम के अलावा रामेश्वर में स्थित रामेश्वर महादेव, चौबेपुर, कैथी में स्थित मार्कंडेय महादेव, शुलटंकेश्वर महादेव, मकबूल आलम रोड पर स्थित पृथ्विश्वर महादेव, कंदवा में स्थित कर्दमेश्वर महादेव जौनपुर-वाराणसी बॉर्डर पर त्रिलोचन में स्थित त्रिलोचन महादेव के साथ ही सभी मंदिरों और शिवालयों में सुबह से ही भक्तों की भीड़ लगी हुई है। कतार बद्ध भक्तों द्वारा बाबा को बेलपत्र और प्रसाद आदि चढ़ाया जा रहा है तथा अभिषेक भी किया जा रहा है

Advertisement

Advertisement