Wed, 21 Sep 2022

अगले 5 वर्षाें में दैनिक एक अरब यूपीआई लेनदेन का लक्ष्य,वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बोलीं

अगले 5 वर्षाें में दैनिक एक अरब यूपीआई लेनदेन का लक्ष्य,वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बोलीं

नई दिल्ली – वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अगले पांच वर्षाें में देश में प्रतिदिन एक अरब यूपीआई लेनदेन का लक्ष्य तय किये जाने का उल्लेख करते हुये आज कहा कि भारत में न:न सिर्फ बड़े शहरों में बल्कि टियर 2 और 3 शहरों के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में भी प्रौद्योगिकी को तेजी से अपनाया जा रहा है। देश में डिजिटल को अपनाने में भारतीय बहुत आगे हैं। श्रीमती सीतारमण ने फिक्की लीड्स 2022 को संबोधित करते हुये कहा कि वित्त का उपलब्धता में उतार चढ़ाव, अनिश्चितता, जटिलतता और अनेकार्थता की स्थिति रहेगी। इसको लेकर योजना बनाये जाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि कृत्रिम बौद्धिकता फिनटेक क्षेत्र में बहुत ही महत्वपूर्ण रहेगा। इस क्षेत्र में एआई की महत्ती भूमिका होगी। धोखाधड़ी की पहचान, अपराध और जोखित की पहचान में भी इसकी भूमिका होगी। उन्होंने कहा कि व्यक्तिगत डेटा सुरक्षा, राष्ट्रीय और साइबर सुरक्षा को सुनिश्चित करने की योजना है।
उन्होंने कहा कि भारत एक ऐसे सिस्टम पर काम कर रहा है जहां सिर्फ एक ही केवाईसी की जरूरत होगी और उसका विभिन्न प्रकार से उपयोग किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि जुलाई में यूपीआई से 10.62 लाख करोड़ के 6.28 अरब लेनदेन हुये है जो जून की तुलना में सात प्रतिशत अधिक है। अगले पांच वर्षाें में यूपीआई से प्रतिदिन एक अरब लेनदेन होने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि भविष्य में वित्त की उपलब्ध अधिक से अधिक बैंकों और उससे जुड़ी सेवाओं से होगा। इसमें अकाउंट एग्रीगेटर की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण हो जायेगी। अब तक सरकारी बैंकों सहित 21 बैंकों ने अकाउंट एग्रीटेटर सिस्टम को अपनाया है। श्रीमती सीतारमण ने कहा कि स्टार्टअप, फिनटेक और प्राइवेट इक्विटी के बीच संपर्क दिख रहा है। अभी इस क्षेत्र में 6636 स्टार्टअप और 21 यूनिर्कोन फिनटेक है। प्राइवेट इक्विटी स्टार्टअप को बढ़ावा दे रहे हैं।

Advertisement

Advertisement