Thu, 23 Jun 2022

Edible Oil: खाने का तेल हो गया सस्ता, आगे और घटेंगी कीमतें

Edible Oil: खाने का तेल हो गया सस्ता, आगे और घटेंगी कीमतें

आम आदमी को बढ़ती महंगाई के मोर्चे पर एक राहत की खबर मिल रही है। जी दरअसल अंतर्राष्ट्रीय दरों में कमी और सरकार के हस्तक्षेप के चलते रिटेल मार्केट में एडिबल ऑयल की कीमतें कम होने लगी हैं। जी हाँ और फूड सेक्रेटरी  ने बताया कि, 'इस महीने की शुरुआत से देश भर में मूंगफली के तेल को छोड़कर, पैकेज्ड खाद्य तेलों की औसत खुदरा कीमतों में 15-20 रुपये तक की कमी आई है और यह 150 से 190 रुपये प्रति किलोग्राम के बीच चल रही है।' आप सभी को बता दें कि पिछले हफ्ते, खाद्य तेल (Edible Oil) कंपनियों अदानी विल्मर (Adani Wilmar) और मदर डेयरी (Mother Dairy) ने विभिन्न प्रकार के खाना पकाने के तेलों के लिए एमआरपी (अधिकतम खुदरा मूल्य) में 10-15 रुपये प्रति लीटर की कमी की।

दोनों कंपनियों ने कहा कि नए एमआरपी वाला स्टॉक जल्द ही बाजार में उतरेगा। इसी के साथ सुधांशु पांडे ने कहा, "सरकार के समय पर हस्तक्षेप और वैश्विक विकास के कारण खाद्य तेलों की कीमतों में रुझान बहुत सकारात्मक हैं।" आप सभी को हम यह भी बात दें कि महाराष्ट्र, राजस्थान, गुजरात और मध्य प्रदेश में दो फेज में कई सारी छापेमारी की गई।  इसमें महाराष्ट्र में पहले और दूसरे फेज में 43 छापेमारी की गई जिसमें पहले फेज में 14 डिफॉल्टर जबकि दूसरे में 2 डिफॉल्टर हुए। इसी के साथ राजस्थान में दोनों फेज में 60 छापेमारी हुई और पहले में 7 और दूसरे में 6 डिफॉल्टर हुए। वहीं गुजरात में दोनों फेज मिलाकर 48 छापेमारी की गई, जिसमें पहले फेज में 7 मामले डिफॉल्ट के मिले वहीं दूसरे फेज में चोर बाजारी, कालाबाजारी के मामले नहीं मिले।

वहीं मध्य प्रदेश में भी दोनों फेज मिलाकर 35 छापेमारी की गई। पहले फेज में 7 तो दूसरे में 4 मामले में गड़बड़ी मिली। इसी के साथ पांडे ने बताया कि अन्य देशों की तुलना करने पर देश में आटे के दाम में भी कमी आई है। पिछले कुछ दिनों में इसमें राहत मिलती दिखी है। इसी के साथ सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से इसमें राहत मिली है, वर्ना ये दाम और बढ़ सकते थे और गेहूं पर रेग्युलेशन के बाद आटा कीमतों पर सरकार लगातार मॉनीटरिंग कर रही है।

Advertisement

Advertisement