Sat, 30 Jul 2022

सीएम योगी का बड़ा ऐलान,यूपी में अब नहीं बढ़ेंगे पेट्रोल-डीजल के दाम

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में बढ़ती महंगाई से त्रस्त प्रदेशवासियों के लिए एक बड़ी राहत का ऐलान किया है.

CM ने निर्देश दिए हैं कि राज्य में अब पेट्रोल-डीजल के दाम कोई बढ़ोतरी नहीं होगी. उन्होंने कहा कि जनहित का ध्यान रखते हुए हमने प्रदेश में वैट की दर में बढ़ोतरी और अन्य कोई नया कर नहीं लगाया है. आज पेट्रोल-डीजल पर सबसे कम वैट की दर यूपी में है. आने वाले समय में भी वैट में कोई बढ़ोतरी नहीं होगी. उन्होंने कहा कि, ज़ोन वार राजस्व संग्रह बढ़ाने का प्रयास किया जाए.

राजस्व संग्रह को लेकर CM योगी ने की बैठक

सीएम योगी ने शुक्रवार यानी 29 जुलाई को अपने सरकारी आवास पर राज्य कर विभाग के अधिकारियों के साथ राजस्व संग्रह की अद्यतन स्थिति की समीक्षा की. इस दौरान उन्होंने ऐसे लोगों पर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं जोकि एसजीएसटी में लगातार चोरी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि, रेवेन्यू कलेक्शन को बढ़ाने के लिए शासन स्तर से फील्ड के अधिकारियों को साप्ताहिक टारगेट दिया जाए. साथ ही साप्ताहिक समीक्षा की जाए. छापेमारी की कार्रवाई और रेवेन्यू कलेक्शन की अलग-अलग रिपोर्ट तैयार की जिसे पता चल सके कि कहां कितनी छापेमारी हुई और कितना कलेक्शन किया गया.

जीएसटी चोरी करने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई

मुख्यमंत्री ने आवास पर सभी जोन कमिश्नरों से उनके वाले ज़ोन में जीएसटी में व्यापारियों की पंजीयन स्थिति, जीएसटी और वैट संग्रह, कर चोरी रोकने के लिए किए जा रहे प्रयासों की जानकारी ली. साथ ही कहा कि एसजीएसटी की चोरी-अपवंचन की कोशिशों को रोकने के लिए सजगता बढ़ाने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि पहले रेकी कर पुख्ता जानकारी जुटा लें उसके बाद ही छापेमारी की कार्रवाई की जाए. इसके लिए इंटेलिजेंस को और बेहतर करना होगा.

राजस्व संग्रह में इन जिलों ने किया अच्छा काम

इस दौरान CM योगी ने बताया कि, राजस्व संग्रह में बरेली, आगरा, गोरखपुर, अयोध्या जोन ने टारगेट की प्राप्ति के लिए अच्छे प्रयास किए हैं. इन जिलों की बेस्ट प्रैक्टिस को अन्य ज़ोन को भी अपनाना चाहिए. उन्होंने कहा कि, झांसी, प्रयागराज, लखनऊ, कानपुर, गाजियाबाद जैसे क्षेत्रों में औद्योगिक विकास के अनेक बड़े प्रोजेक्ट चल रहे हैं. यहां संभावनाएं भी अधिक हैं. टैक्स चोरी पर रोक लगाने के लिए जल्द से जल्द सख्त कदम उठाए जाएं.

Advertisement

Advertisement