Fri, 2 Sep 2022

भारत के पहले स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर INS Vikrant का अनावरण

भारत के पहले स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर INS Vikrant का अनावरण

देश को आज अपना ताकतवर स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर आईएनएस विक्रांत  मिल गया। PM नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कोच्चि में कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड में भारत के पहले स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर आईएनएस विक्रांत का अनावरण किया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान, CM पिनाराई विजयन और अन्य गणमान्य व्यक्ति इस खास मौके पर मौजूद थे। एयरक्राफ्ट कैरियर आईएनएस विक्रांत दुनिया के दस सबसे ताकतवर विमानवाहक युद्धपोतों में शामिल है। एयरक्राफ्ट कैरियर मतलब समुद्र में तैरता एक एयरफोर्स स्टेशन हैं, जहां से आप फाइटर जेट्स, मिसाइलें, ड्रोन्स उड़ाकर अपने दुश्मनों से लड़ सकते हैं।
 
एयरक्राफ्ट विक्रांत की कमीशनिंग समारोह में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, 'अमृतकाल' के प्रारंभ में आईएनएस विक्रांत की कमीशनिंग अगले 25 वर्षों में राष्ट्र की सुरक्षा के हमारे मजबूत संकल्प को दर्शाती है।आईएनएस विक्रांत आकांक्षाओं और आत्मनिर्भर भारत का एक असाधारण प्रतीक है।
 

-विक्रांत को अत्याधुनिक ऑटोमेशन सुविधाओं के साथ बनाया गया है और भारत के समुद्री इतिहास में निर्मित अब तक का सबसे बड़ा जहाज है।

-स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर का नाम शानदार पूर्ववर्ती, भारत के पहले विमान वाहक के नाम पर रखा गया है, जिसने 1971 के युद्ध में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

-स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर आईएनएस विक्रांत में बड़ी मात्रा में स्वदेशी उपकरण और मशीनरी का इस्तेमाल किया गया है, जिसमें देश के प्रमुख औद्योगिक घरानों के साथ-साथ 100 से अधिक एमएसएमई शामिल हैं।

-विक्रांत के चालू होने के साथ, भारत के पास दो ऑपरेशनल एयरक्राफ्ट कैरियर होंगे, जो देश की समुद्री सुरक्षा को मजबूत करेंगे।

-भारतीय नौसेना के अनुसार, 262 मीटर लंबे वाहक का पूर्ण विस्थापन लगभग 45,000 टन है जो कि उसके पूर्ववर्ती की तुलना में बहुत बड़ा और अधिक उन्नत है।

Advertisement

Advertisement