Sun, 22 Jan 2023

CDS बिपिन रावत का जल्द पूरा होगा सपना, सेना में थिएटर कमांड बनाए जाने का काम लगभग पूरा

CDS बिपिन रावत का जल्द पूरा होगा सपना, सेना में थिएटर कमांड बनाए जाने का काम लगभग पूरा

15 अगस्त 2019 को लालकिले की प्राचीर से पीएम मोदी ने सीडीएस पद का ऐलान किया था. भारत के पहले CDS बिपिन रावत थे. उनका ड्रीम प्रोजेक्ट था थिएटर कमांड बनाना.

ताकि एक छत के नीचे तीनों को लाया जा सके. इस पर काफी काम हो चुका था लेकिन हेलिकॉप्टर क्रैश हादसे में उनकी जान चली गई थी. वर्तमान सीडीएस अनिल चौहान अब इस पर काम कर रहे हैं. इस मामले के जानकार दो शीर्ष अधिकारियों ने बताया कि अब इस पर फाइनल काम हो रहा है. यानी कि तैयारी पूरी हो चुकी है. हो सकता है इसी साल 15 अगस्त को इसका ऐलान भी कर दिया जाए.

भारत की सीमाएं पाकिस्तान और चीन से लगती हैं. हर वक्त दोनों ही देश उकसाने वाली हरकतें करते रहते हैं. चीनी सेना में भी अलग-अलग थिएटर कमांड हैं. वर्तमान में अमेरिका के पास 11 और चीन के पास 5 थिएटर कमांड्स हैं. टॉप गवर्नमेंट ऑफिसियल ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि जिन शीर्ष प्रस्तावों पर विचार किया जा रहा है उनमें से एक संयुक्त थिएटर कमांड बनाना है. उन्होंने बताया कि थल सेना, नौसेना और वायु सेना को स्पेशल थिएटर कमांड में जोड़ने वाली योजनाओं की अंतिम रूपरेखा तैयार कर रहे हैं.

जबकि इससे पहले जो योजना थी वो चार थिएटर कमांड बनाने की थी. एक एयर डिफेंस कमांड, एक नेवी थिएटर कमांड और दो आर्मी थिएटर कमांड (पश्चिमी और पूर्वी क्षेत्रों के लिए एक-एक). सबसे पहले चीन के साथ उत्तरी और पूर्वी बॉर्डर की सुरक्षा के लिए एकीकृत थिएटर कमांड तैयार करना शामिल है. दूसरा पाकिस्तान के साथ पश्चिमी सीमाओं के लिए और तीसरा समुद्री कमांड जोकि समुद्री क्षेत्र में खतरों से निपटने के लिए होगा. विशाखापत्तनम, जयपुर और लखनऊ उन संभावित स्थानों में से हैं जिन पर उनके मुख्यालय के लिए चर्चा की जा रही है.

इसके अलावा संयुक्त प्रशिक्षण कमान के गठन पर भी चर्चा चल रही है. 2021 तक तीन संयुक्त लॉजिस्टिक्स नोड्स पहले ही चालू हो चुके थे. वर्तमान में भारत के पास दो जॉइंट सर्विस कमांड अंडमान-निकोबार कमांड (ANC) और स्ट्रेटेजिक फोर्सेज कमांड (SFC) है.एक अधिकारी ने कहा कि सभी का प्रयास है कि थिएटर कमांड बनाने में ज्यादा वक्त न जाए क्योंकि हमारे सामने हमेशा संघर्ष की स्थिति बनी रहती है.

पिछली योजना में सेना की उत्तरी कमान और भारतीय वायुसेना के एयर ऑफिसर कमांडिंग जम्मू, कश्मीर और लद्दाख को थिएटर कमांड से बाहर रखने की बात कही गई थी. और इन्हें स्वतंत्र रूप से संचालित करना था. IAF ने पिछले थिएटराइजेशन योजनाओं पर आपत्ति जताई थी. बीते दो सालों में तीनों सेनाओं के शीर्ष अधिकारियों ने थिएटराइजेशन प्रक्रिया पर खूब स्टडी की. दिसंबर 2021 में एक हेलिकॉप्टर दुर्घटना में जनरल रावत के मारे जाने के बाद योजनाओं की गति धीमी हो गई.

मौजूदा सीडीएस जनरल अनिल चौहान के पिछले साल सितंबर में कार्यभार संभालने के बाद योजनाओं ने फिर से गति पकड़ी. अधिकारियों के अनुसार पिछले तीन महीनों में तीनों सेवाओं के भीतर, तीनों सेना प्रमुखों और जनरल चौहान के बीच थिएटराइजेशन योजनाओं पर कई बैठकें हुई हैं. ताजा घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले अधिकारियों ने कहा कि योजना को जल्द ही अंतिम रूप दिए जाने की उम्मीद है.

Advertisement

Advertisement

Advertisement